नुक्ताचीनी का नया पता

घबराईये नहीं नुक्ताचीनी बंद नहीं हुई, बस अब नई जगह होती है ! नुक्ताचीनी का नया पता है http://nuktachini.debashish.com नुक्ताचीनी की फीड का पाठक बनने हेतु यहाँ क्लिक करें

Friday, September 02, 2005

पौ बारह

और मुझे लगता था कि ब्लॉगिंग कर भारी पैसा नहीं बनाया जा सकता। डैरेन हर रोज लगभग २३००० रुपये कमाते हैं।

3 comments:

अनूप शुक्ला said...

तुम भी शुरु कर दो.कुछ प्रयास करो.बताओ सबको.

Atul Arora said...

एक पंक्ति के लेख लिखकर नौदो ग्यारह होने की आलोक भाई की अदा आपने भी अपना ली?

Debashish said...

अतुल: अब भाई जो बात कम शब्दों में ही वार करे उस पर ज्यादा शब्द क्यों खर्च करा जाय।
अनूपः मेरे प्रयास तो २००२ से चल रहे हैं पर खर्चा ही हुआ है कमाई नहीं।